13.1 C
New Delhi
Monday, March 4, 2024

कोविड के बाद की दुनिया में सेहतमंद व्यवहार को बढ़ावा देगी नई टेलीविज़न सीरीज़ “दूर से नमस्ते”

नई दिल्लीः कोरोना से बचाव के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब देश की जनता को संबोधित करते हुए सोशल डिस्टेंसिंग की बात की और कहा ‘दो गज दूरी मास्क है जरूरी’। स्वभाविक था कि अपने लोकप्रिय प्रधानमंत्री के आह्वाण और कोरोना महामारी की भयावहता से निपटने के लिए उनकी बातों को जनता हांथो-हांथ लेती। अब कोरोना की भयावहता कम हो गई है। फर्स्ट डोज, सेकेंड डोज और अब बूस्टर डोज के आह्वाण को भी जनता पालन करती हुई दिख रही है।
कोरोना की वैश्विक महामारी की मार से उबरने के बाद जीवन पटरी पर लौटने लगा है। लेकिन यादें साथ हैं, अनुभव साथ हैं। लेकिन ऐसा भी नहीं है कि अभी कोरोना का खतरा खत्म हो गया है। कहा भी गया है कि ‘सावधानी हटी, दुर्घटना घटी।’ इसी सीख को अम्ल करते हुए कहीं लोग इस महामारी के दौरान विषाद और उस दौरान प्राप्त अनुभव को बिसरा न दें और सोशल डिस्टेंसिंग यानी दो गज दूरी मास्क है जरूरी के सबक को बिसरा न दें यह चिंता तो हैं। और इसी चिंता और सबक को फिर से याद दिलाने के लिए आज यूएस एजेन्सी फॉर इंटरनेशनल डेवलपमेन्ट ;यूएसएआईडीद्ध और युनिसेफ ने एक कार्यक्रम के दौरान दूरदर्शन और यूट्यूब सीरीज़ दूर से नमस्ते का औपचारिक लॉन्च किया।

क्या है स्टोरी

दूर से नमस्ते, एक काल्पनिक हिंदी सीरीज़ है जिसे मनोरंजक-शैक्षणिक फोर्मेट में तैयार किया गया है। यह सीरीज़ महामारी के बाद की दुनिया में चुनौतियों पर रोशनी डालती है और सेहतमंद व्यवहार को बढ़ावा देती है। कोविड-19 वैक्सीन को बढ़ावा देने तथा कोविड-19 अनुकूल व्यवहार जारी रखने का संदेश देने वाली इस सीरीज़ में बच्चों एवं युवाओं के मानसिक स्वास्थ्य से जुड़े मुद्दों पर सुझाव दिए गए हैं। साथ ही यह सीरीज़ बच्चों को भी सेहतमंद व्यवहार के लिए प्रोत्साहित करती है जो महामारी के बाद फिर से स्कूल लौट रहे हैं। कार्यक्रम का प्रसारण प्रत्येक रविवार को सुबह 11 बजे से दोपहर 12 बजे तक किया जाएगा।

क्या कहते हैं जानकार

दूर से नमस्ते सीरिज के लांचिग कार्यक्रम में अपर सचिव एवं मिशन डायरेक्टर (राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन), मिस रोली सिंह एवं संयुक्त सचिव, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय मिस नीरजा शेखर उद्घाटन के अवसर पर मौजूद थे। मिस सिंह ने कोविड-19 महामारी के बारे में बात करते हुए महामारी के बाद की दुनिया में जीवन के नए तरीके पर रोशनी डाली। मिस शेखर ने स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में मास मीडिया एवं संचार की भूमिका पर विचार प्रस्तुत किए।

शैक्षणिक-मनोरंजक सीरीज़ पर अपने विचार व्यक्त करते हुए मिस वीना रेड्डी, मिशन डायरेक्टर, यूएसएआईडी इंडिया ने कहा, ‘‘कोविड-19 की कोई सीमा नहीं है और जब तक हर कोई सुरक्षित नहीं है, तब तक कोई भी सुरक्षित नहीं है। यूएसएआईडी के लिए गर्व की बात है कि इसे दूर से नमस्ते को समर्थन देने का मौका मिला है जो न्यू नॉर्मल के दौर में नई चुनौतियों एवं अच्छी सेहत के तरीकों पर रोशनी डालती है।’’

व्यवहार में बदलाव के लिए मास मीडिया के महत्व पर रोशनी डालते हुए अर्जन डे वाग्ट, युनिसेफ इंडिया के डिप्टी-रिप्रेज़ेन्टेटिव ने कहा, ‘‘भारत में वैज्ञानिक अध्ययनों से साफ हो गया है कि टेलीविज़न लोगों के व्यवहार में बदलाव लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। महामारी के दौरान हमने इसकी क्षमता को देखा है। मुझे खुशी है कि दूर से नमस्ते के लॉन्च के लिए मुझे आपके साथ जुड़ने का मौका मिला है, जो निश्चित रूप से मनोरंजन के साथ-साथ लोगों को जागरुक भी बनाएगी। उन्हें बताएगी कि किस तरह बच्चों को मनौवैज्ञानिक सहयोग दिया जा सकता है, युवाओं को मानसिक रोगों से बचाया जा सकता है और महामारी के बाद फिर से स्कूल लौट रहे बच्चों को कैसे सुरक्षित बनाए रखा जा सकता है।’’

यह भी पढ़ेंः हरियाणा के सुनील जागलान ने छेड़ी ऐसी मुहिम, घर-घर लग रहे , गाली बंद के चार्ट

दूरदर्शन की प्रतिबद्धता पर बात करते हुए मयंक अग्रवाल, सीईओ, प्रसार भारती एवं डीजी दूरदर्शन ने कहा, ‘‘दूर से नमस्ते आज के दौर का प्रासंगिक शो है। भारत के सार्वजनिक प्रसारक के रूप में हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि इस तरह के शो बड़ी संख्या में आम लोगों तक पहुंचें। युनिसेफ के साथ साझेदारी करते हुए हमें बेहद खुशी का अनुभव हो रहा है। हमें उम्मीद है कि आने वाले समय में हम सार्वजनिक कल्याण के लिए एक साथ मिलकर काम करते रहेंगे।’’

इस अवसर पर सूचना और प्रसारण मंत्रालय की अपर सचिव नीरजा शेखर ने कहा कि सूचना और प्रसारण मंत्रालय, प्रसार भारती, दूरदर्शन और आकाशवाणी ऐसे प्रमुख चैनल हैं जिनके माध्यम से भारत सरकार अपनी नीतियों के बारे में जानकारी फैलाने के लिए लोगों तक पहुचती है। उन्होंने बताया कि दूरदर्शन के 25 चैनल हैं और ऑल इंडिया रेडियो में 400 से अधिक रेडियो स्टेशन हैं। उन्होंने कहा, कोविड महामारी के दौरान, स्वास्थ्य मंत्रालय और आयुष मंत्रालय महामारी से निपटने के लिए अपने प्रोटोकॉल के साथ सामने आए और फर्जी सूचनाओं को दूर करने के लिए तथ्य जांच इकाई भी स्थापित की गई। उन्होंने बताया कि पूरे संचार तंत्र का नेतृत्व प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था क्योंकि वह प्रमुख संचारक हैं और पूरे कोविड काल के दौरान जब भी वे बोलते थे, लोग सुनते थे।

कार्यक्रम के दौरान थिएटर फिल्म दूर से नमस्ते की स्क्रीनिंग की गई। इसकी कहानी ने दर्शकों को वैक्सीन लगवाने और कोविड अनुकूल व्यवहार जारी रखने का संदेश दिया। कार्यक्रम के दौरान मुख्य अभिनेताओं अंकित रायज़ादा, डॉली चावला और अतुल पारचुरे ने एक पैनल चर्चा में भी हिस्सा लिया, जिसका संचालन क्रिएटिव टीम से मानव रथ और मनीष सिंह ने किया था।

सीरीज़ का प्रोडक्शन राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार विजेता एवं पद्मश्री नील माधव पांडा के प्रोडक्शन हाउस एल्लेआनोरा इमेजेज़ प्रा. लिमिटेड द्वारा किया गया है।

एड्युटेनमेन्ट सीरीज़ दूर से नमस्ते का प्रसारण 14 अगस्त 2022 से डीडी नेशनल पर प्राइम टाईम स्लॉट में किया जा रहा है। शो का प्रसारण हर रविवार दोपहर 11 से 12 बजे के बीच जोता है और शनिवार शाम 6-7 बजे इसका रिपीट टेलीकास्ट होता है। शो दूर से नमस्ते यूट्यूब चैनल पर भी उपलब्ध है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Pic of The Day

- Advertisement -spot_img

Latest Articles